विश्व फोटोग्राफी दिवस क्या है और क्यों मनाया जाता है ?

क्या आपने विश्व फोटोग्राफी दिवस यानि World Photography Day का नाम सुना है?

चौंक गए ना ! भला फोटोग्राफी के लिए कौन सा दिन?

आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि विश्व फोटोग्राफी दिवस हर साल 19 अगस्त को मनाया जाता है |

यह दिन हमारे भीतर छिपे और निष्क्रिय पड़े हुए फोटोग्राफर को खोजने और बाहर निकलने का एक मौका देता है जो अब तक कहीं सोया हुआ था|

आज के समय में देखा जाये तो हम सब एक फोटोग्राफर हैं क्योंकि सभी ने कभी न कभी तस्वीरें तो ज़रूर खींची होंगी भले ही वह एक मोबाइल कैमरा से ही क्यों न हो |

हांलाकि भारत में अभी भी बहुत लोगों को इस दिन के बारे में पता नहीं है परन्तु इसकी जागरूकता अब बढती जा रही है |

आइये जानते हैं विश्व फोटोग्राफी दिवस के बारे में कि इसे क्यों मनाया जाता है और आप इस दिन क्या कर सकते हैं?

विश्व फोटोग्राफी दिवस क्यों मनाया जाता है?

old camera, world photography day

विश्व फोटोग्राफी दिवस को पूरा विश्व डैगुएरियोटाइप प्रक्रिया (Daguerreotype process) के आविष्कार का सम्मान करता है क्योंकि इसी दिन दुनियां को पहली स्थायी फोटोग्राफिक छवि की सौगात मिली थी |

यह दिन केवल उन चुने हुए पेशेवर फोटोग्राफरों के लिए ही नहीं बल्कि सभी के लिए है चाहे वह किसी भी व्यवसाय से जुड़े हुए हों |

इस दिन दुनियां भर के सभी लोग अपने अलग अलग पेशे और शौक़ के बावजूद एक मंच पर आते हैं और आने वाली पीढ़ियों को फोटोग्राफी के महत्व को समझने के लिए प्रोत्साहित करते हैं |

यदि सही मायनों में कहें तो विश्व फ़ोटोग्राफ़ी दिवस ही वह दिन है जब हम तस्वीरों के माध्यम से अपनी भावनाओं को व्यक्त और साझा कर सकते हैं |

विश्व फोटोग्राफी दिवस कब मनाया जाता है? [2022]

विश्व फोटोग्राफी दिवस (World Photography Day) हर साल 19 अगस्त को मनाया जाता है |

#WorldPhotographyDay

Friday, August 19, 2022

फोटोग्राफी का इतिहास | History of Photography in Hindi

आइये आपको फोटोग्राफी के इतिहास के बारे में बताएं जिसके बारे में शायद ही कोई जानता होगा |

फोटो खींचने और सोशल मीडिया पर अपलोड करने की दौड़ में हम इस सुनहरे इतिहास को भूल ही जाते हैं |

तो चलिए फोटोग्राफी से जुडी कुछ यादें ताज़ा करें |

पिनहोल कैमरा से फोटोग्राफी की शुरुआत 

Camera obscura, विश्व फ़ोटोग्राफ़ी दिवस

18 वीं शताब्दी से पहले प्रकाश संवेदनशील सामग्रियों (light sensitive materials) का प्रयोग कर के चित्रों को खींचने और उनको छापने के किसी भी प्रयास का उचित विवरण नहीं मिलता है |

फोटोग्राफी के इतिहास में ‘camera obscura image projection’ का ज़िक्र आता है जिसका लैटिन भाषा में अर्थ होता है – अँधेरा कमरा |

Camera obscura जिसे pinhole image भी कहा जाता है, एक प्राकृतिक ऑप्टिकल प्रक्रिया है |

यह तब होती है जब किसी दृश्य की छवि (image of a scene) को दूसरी ओर रखे हुए स्क्रीन (उदहारण के लिए दीवार) पर एक छोटे छेद के माध्यम से प्रक्षेपित (project) किया जाता है और तब स्क्रीन पर एक उलटी  छवि बन जाती है | 

कमरे में अपेक्षाकृत अंधेरा होना चाहिए जिससे  प्रक्षेपित छवि स्पष्ट देखी जा सके | 

16 से 19 वीं शताब्दी के बीच ऐसे कई प्रयोग हुए जिसमे एक अँधेरे कमरे के छेद में लेंस का भी प्रयोग किया गया और यह तकनीक उस समय चित्रकला के लिए उपयोग में लायी जाती थी |

19 वीं शताब्दी के शुरुआत में camera obscura तकनीक को फोटोग्राफ़िक कैमरे के रूप में विकसित किया गया और प्रकाश संवेदनशील सामग्री (light sensitive materials) को एक्सपोज़ कर एक तस्वीर को बनाने के लिए बक्सों का इस्तेमाल किया गया था |

The Oldest Photographs in the World

डगुएरियोटाइप प्रक्रिया और फोटोग्राफी का विकास

सन 1820 के मध्य में फ्रांस के निकफॉर नीएप्स (Nicéphore Niépce) ने कैमरे का उपयोग कर किसी छवि को पकड़ने और एक तस्वीर की शक्ल देने में कामयाबी हासिल की |

हांलाकि उनका तरीका बहुत अपरिष्कृत (crude) था और फोटो एक्सपोज़ होने में भी आठ दिनों का लम्बा समय लगता था पर एक शुरुआत तो हो ही चुकी थी |

नीएप्स और उनके सहयोगी लुई डगुएरे (Louis Daguerre) ने फिर डगुएरियोटाइप प्रक्रिया  (Daguerreotype process) का विकास किया जो एक धातु आधारित थी (चांदी और सोडियम थिओसल्फेट) और जिसमे एक्सपोज़र के लिए कुछ मिनटों की ही आवश्यकता होती थी |

इसका परिणाम भी बहुत स्पष्ट और विस्तृत था | 

 

World Photography Day के पीछे की कहानी डैगुएरियोटाइप के आविष्कार से ही उत्पन्न होती है, जिसे सन 1837 में निकफॉर नीएप्स और लुई डगुएरे द्वारा विकसित  किया गया था ।

9 जनवरी 1839 को फ्रांसीसी एकेडमी ऑफ साइंसेज ने डगुएरियोटाइप प्रक्रिया की औपचारिक घोषणा की ।

कुछ ही महीने बाद, 19 अगस्त 1839 को, फ्रेंच सरकार ने पेटेंट खरीदा और इस आविष्कार को दुनियां के लिए एक “नि: शुल्क उपहार ” के रूप में घोषित कर दिया |

अब आप समझे कि इस दिन को हर साल 19 अगस्त को ही क्यों मनाया जाता है |

अभी हम यह सोच कर देखें कि यदि फोटोग्राफी पर किसी का पेटेंट या एकाधिकार होता तब क्या होता |

देखना न भूलें!

आधुनिक युग में विश्व फोटोग्राफी दिवस मनाने की शुरुआत

19 अगस्त 1839 को निम्नलिखित ऐतिहासिक योग्यताओं के आधार पर विश्व फोटो दिवस को  तिथि के रूप में चुना गया:
 
* पहली व्यावहारिक (Practical) और सफ़ल फ़ोटोग्राफ़िक प्रक्रिया के रूप में ।
* फ्रांसीसी सरकार द्वारा पेटेंट का खरीदा जाना और इसे पूरी दुनियां के लिए नि: शुल्क रखना |
 

इस दिवस को मनाने और सभी को एक मंच पर लाने का श्रेय सिर्फ एक व्यक्ति को जाता है जो हैं – कैनबेरा के मशहूर फ़ोटोग्राफ़र कोर्स्क आरा (Korske Ara) |

जब आरा ने इसकी आधिकारिक शुरुआत August 19, 2010 को की तब इस वैश्विक फोटोग्राफी कार्यक्रम में भाग लेने के लिए केवल 250 लोगो ने ही पंजीकरण कराया |

यह उनके अटूट प्रयास का ही नतीजा था की 2016 तक आते आते विश्व फोटो दिवस 500 मिलियन लोगों तक पहुंचा और दुनियां भर के फ़ोटोग्राफ़रों को अपनी कहानियों को साझा करने के लिए प्रेरित किया |
 

आरा के अपने शब्दों में –

The idea is to really bring back the value of photography. Photography is really taken for granted today and we’ve forgotten what it means to capture a photo and what it means to reflect on it.

विश्व फोटोग्राफी दिवस कैसे मनाया जाता है?

इस दिन दुनियां भर में मीडिया कार्यक्रम, अभियान, फोटोग्राफी के ज्ञान को फैलाने और लोगों को इकट्ठा करने के लिए ऐसी ही अन्य गतिविधियां होती रहती हैं |

इस दिन कला प्रदर्शनियां और फोटोग्राफी प्रतियोगिताएं भी होती हैं जिसमे कोई भी भाग ले सकता है |

विभिन्न संस्थाएं, श्रेणियों के आधार पर ऑनलाइन और ऑफ़लाइन फोटोग्राफी प्रतियोगिताओं का आयोजन करते हैं ।

यह प्रतियोगिताएं सभी उम्र, वर्गों, व्यवसायों और रीति-रिवाजों से जुड़े लोगों को उनका योगदान देने के लिए प्रोत्साहित करती है और दूसरों को उनके अनुभवों से सीखने का एक मौका देती है।

World Photography Day को हम क्या करें ?

विश्व फोटोग्राफी दिवस

  • एक शब्द में कहूँ तो “प्रेरणा” लें | इस दिन अपने भीतर छिपे हुए फ़ोटोग्राफ़र को बाहर आने दें, व्यस्त दिनचर्या को तनिक विराम दें, अपनी अलमारी के उपरी कोनों को खंघालें और कैमरा निकालें | चाहे हमारे पास एक मोबाइल कैमरा ही क्यों न हो हम इस दिन उसका उपयोग करें और इस समय को सुरक्षित कर लें, सिर्फ़ एक फोटो के माध्यम से |
  • इस दिन फोटोग्राफी के Basics को समझने की कोशिश करें और अपने मैन्युअल फोटोग्राफी के डर को दूर करें |
  • इस दिन सोशल मीडिया का उपयोग कर अपने खींची हुई तस्वीरों को सबके साथ साझा करें | Instagram पर हैशटैग #WorldPhotographyDay पर एक नज़र डालें और फोटो को टैग करें |
  • चित्रों का एक कोलाज (collage) बनायें | मज़े और रचनात्मकता के लिए चित्रों को आयताकार न काटकर तरह – तरह के आकारों में काटें |
  • ज़ू में जाकर थोड़ी wildlife फोटोग्राफी करें या फिर अपने घर के बगीचे में फूलों के macro शॉट्स लें | अपने परिवार की फोटो लें, इनको फ्रेम करें और इस अनमोल आकर्षण को अपने ड्राइंग रूम की दीवार पर लटका दें |
  • अपने फोटोग्राफ़र मित्रों को एक अच्छा सा उपहार दें जैसे – ट्राईपोड, मोबाइल लेंस, कैमरा बैग, कैमरा स्ट्रैप, सेल्फी स्टिक, फ़ोटो मग, फोटोग्राफी पर किताब, पॉकेट लाइट, स्मार्टफोन रिमोट शटर, लेंस क्लीनर, फ़िल्टर जैसे अनेकों कम दाम वाले उपहार |
  • इस दिन को एक फोटोग्राफी ब्लॉग बनायें और अपनी तस्वीरों को दुनियां को दिखाएँ | फोटो शेयरिंग साईट से अलग ब्लॉग ही वो जगह है जहाँ हम तस्वीरों के साथ साथ अपनी भावनाओं को शब्दों में भी बयां कर सकते हैं |
  • सबके पास कंप्यूटर या मोबाइल मेमोरी कार्ड में हजारों तस्वीरें पड़ी रहती हैं | इस एक दिन को हम इन्हें संयोजित कर लें | एक जैसी ही कई तस्वीरों को मिटा दें और छांटी हुई तस्वीरों को तनिक एडिटिंग कर के रख लें जिसे बाद में हम प्रिंट भी कर सकते हैं | कई वेबसाइट जैसे zoomin पर हम ऑनलाइन फोटो अपलोड कर उनके प्रिंट मंगा सकते हैं|
  • दुनियाँ भर के प्रतिभाशाली फ़ोटोग्राफ़रों को फॉलो करें और अपनी फ़ोटोग्राफ़ी को एक नया आयाम दें | विभिन्न प्रकार की फ़ोटो कम्युनिटीज से ऑनलाइन जुड़ें |

और अंत में …

चाहे हम कभी कभार ही फोटो खींचते हों, शौक़िया या फिर पेशेवर फोटोग्राफर हों इस दिन को पूरी तरह से जियें और एक ऐसी विद्या को सम्मान दें जो अब हमारे दैनिक जीवन का एक अभिन्न अंग बन चुकी है |

विश्व फ़ोटोग्राफ़ी दिवस को मनाने के लिए किसी फैंसी उपकरण की आवश्यकता नहीं है इसके लिए चाहिए तो बस एक जूनून |

आप अपने घर पर ही खुद का अंतर्राष्ट्रीय फोटोग्राफी दिवस मनाएं और अपनी कलात्मकता अपने मित्रों और रिश्तेदारों के साथ साझा करें |

आखिरकार  – ये चित्र ही हैं जो हजारों शब्द कह सकते हैं |

हमें कमेंट कर बताएं कि आप world photography day कैसे मनाने वाले हैं ?

खूब सारी तस्वीरें खींचें और हमारे इन्स्टाग्राम प्रोफाइल @yatragraphy पर टैग करें |

शेयर करें!

4 thoughts on “विश्व फोटोग्राफी दिवस क्या है और क्यों मनाया जाता है ?”

  1. Having read this I believed it was very enlightening.

    I appreciate you spending some time and effort to put this content
    together. I once again find myself spending way too much time both reading and leaving comments.
    But so what, it was still worth it!

  2. Hello, i think that i saw you visited my web site so
    i came to “return the favor”.I’m attempting to find things to improve my website!I suppose its ok to use a few of your ideas!!

  3. Hey there, You have done an incredible job.

    I will definitely digg it and personally recommend to my friends.
    I’m sure they will be benefited from this web site.

Leave a Comment

Your email address will not be published.

आप इस पेज की सामग्री को कॉपी नहीं कर सकते!

Scroll to Top